50 Lines On Diwali In Hindi Essay | दिवाली पर 50 लाइन निबंध [Deepawali 2021]

इस पोस्ट मे शुभ दिवाली के शुभ अवसर पर Happy Diwali के लिए Diwali 50 Lines In Hindi Essay शेयर कर रहे है, जिस निबंध को Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए लिखी गई है। जिसे इन कक्षा के छात्र अपनों के साथ शेयर कर सकते है, तो चलिये अब 50 Lines On Diwali In Hindi Essay – दिवाली पर 50 लाइन निबंध को जानते है।

दिवाली पर 50 लाइन निबंध | Diwali 50 Lines In Hindi Essay

50 Lines On Diwali In Hindi Essay
50 Lines On Diwali In Hindi Essay

50 Lines On Diwali In Hindi Essay

  1. दिवाली जिसे दीपावली भी कहा जाता है यह भारत का सबसे बड़ा पर्व है।
  2. दिवाली त्यौहार हिंदू धर्म के मुख्य त्यौहारो में से एक है।
  3. दिवाली सनातन धर्म के लोगों द्वारा मनाया जाने वाले सर्वश्रेष्ठ त्यौहारों में से एक है।
  4. दिवाली का त्यौहार प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह में मनाई जाती है।
  5. दिवाली का त्योहार मनाया जाने का प्रमुख कारण श्री राम जी का चौदह वर्ष का वनवास सम्पूर्ण कर अयोध्या वापस आना था उनके आने पर अयोध्या वासियों ने पूरी अयोध्या में घी के दीपक जलाए थे।
  6. दीवाली के दिन दीपक जलाने से अमावस्या की अंधेरी रात को जगमगा देना होता है।
  7. दिवाली पुरुषोत्तम राम जी की जीत और असत्य पर सत्य की जीत के साथ साथ अधर्म पर धर्म कीजीत का प्रतीक है।
  8. दिवाली को करीब 5 दिन तक मनाया जाता है। दरअसल 2 दिन पहले धनतेरस व अगले दिन छोटी दिवाली उसके अगली दिन दिवाली, फिर गोबरधन पूजा फिर आखिर मे पांचवे दिन भैया दूज होता है।
  9. दिवाली के दिन खुशियाँ बाटने के साथ साथ मिठाइयाँ बाटने की प्रथा भी है।
  10. दिवाली के दिन राम जी के वापस आने के साथ साथ लक्ष्मी माँ की भी पुजा की जाती है। कहां जाता है की माता लक्ष्मी चालीसा की इस दिन पूरे मन से पुजा करने पर किसी चीज की कमी नहीं रहती है।
  11. दिवाली के दिन छोटे बच्चों में अत्यंत खुशी होती है क्योंकि वो अपने मित्रों के साथ बम पटाखे फोड़ने में ज्यादा खुशी महसूस करते है।
  12. दिवाली के दिन पूरा भारत जगमगा उठता है और गली गली कोने कोने रोशनी फैली होती है।
  13. दिवाली के दिन भगवान राम 14 वर्ष के वनवास से लौटे थे।
  14. दिवाली के दिनों घरों और दफ्तर को लाइट लगाकर और रंगोली बनाकर सजाया जाता है।
  15. दिवाली के पावन पर्व को हर साल कार्तिक महीने में मनाया जाता है।
  16. दिवाली का त्यौहार अमावस्या की रात को मनाया जाता है अमावस्या की अंधेरी रात को खत्म करने के लिए दिये जलाना शुभ माना जाता है।
  17. दिवाली से पहले धनतेरस और धनतेरस के बाद छोटी दिवाली आती है छोटी दिवाली के बाद गोवर्धन की पूजा होती है और उसके अगले दिन भैया दूज आता है।Deepawali imgaes photo wallpaper
  18. दीवाली की रात को लोग माता लक्ष्मी भगवान गणेश की पूजा कर उनसे धन की कामना करते हैं।
  19. भगवान श्री राम ने रावण का वध कर बुराई पर अच्छाई की जीत का निशान छोड़ा था।
  20. 14 साल के वनवास को काट कर अपने राज्य अयोध्या वापस आए थे| और अपनी गद्दी को दोबारा संभाला था।
  21. हर साल कार्तिक मास की अमावस्या की रात को दिवाली का त्यौहार मनाया जाता है।
  22. अमावस्या की रात को पूर्णिमा की रात में बदलने के लिए दीपक जलाए जाते है।
  23. भगवान राम का स्वागत करने के लिए अयोध्या के लोगों ने घरों में दिए जलाए थे।
  24. दिवाली के त्यौहार से पहले सभी तरफ घरों की साफ-सफाई की जाती है।
  25. दीपावली के पांचवे दिन को भाई बीज का त्यौहार मनाया जाता है।
  26. दिवाली के दिन दीप जलाए जाते हैं दिवाली का त्यौहार कार्तिक मास में आता है।
  27. दिवाली त्योहार को पूरे 5 दिन मनाया जाता है।
  28. मिठाइयों की दुकान धूमधाम से सजी हुई होती है सामान्य तौर पर जितनी अन्य दुकानें भी हैं वह अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए दुकानों को खूब अच्छी तरीके से सजा लेती है।
  29. धन की देवी लक्ष्मी माता का और बुद्धि ज्ञान के देवता श्री गणेश जी की पूजा की जाती है और उन से वरदान मांगा जाता है कि उनका साथ कभी ना छूटे उनका आशीर्वाद हमारे साथ बना रहे।
  30. दिवाली की तैयारियां कुछ दिनों पहले से ही शुरू हो जाती हैं जैसे कि घरों में सफाई होना दुकानों, कार्यालय आदि में सफाई होना शुरू हो जाता है।
  31. अंधेरे को दूर भगाने के लिए गली गली में हर घरों में दीपक जलाए जाते हैं।
  32. दिवाली के त्यौहार की खुशी में बाजार आदि में सजावटें शुरू हो जाती हैं और घरों को सजाने के लिए घरों को सजाने का सामान बाजार आदि में मिलने लग जाती है।
  33. मिठाइयों की दुकान धूमधाम से सजी हुई होती है सामान्य तौर पर जितनी अन्य दुकानें भी हैं वह अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए दुकानों को खूब अच्छी तरीके से सजा लेती है।
  34. दिवाली के त्यौहार से 1 दिन पूर्व धनतेरस का त्यौहार आता है धनतेरस की महत्वता अलग ही है धनतेरस के अगले दिन छोटी दिवाली आती है।
  35. दिवाली के त्यौहार से 1 दिन पूर्व धनतेरस का त्यौहार आता है,
  36.  धनतेरस की महत्वता अलग ही है धनतेरस के अगले दिन छोटी दिवाली आती है।
  37. दिवाली के अगले दिन गोवर्धन की पूजा की जाती है और उसके अगले दिन भैया दूज आता है| यह पांचो त्यौहार का एक समूह होता है।
  38. दिवाली का त्यौहार राष्ट्रीय व भारत की संस्कृति को दर्शाने के त्यौहार है।
  39. राम जी के लौटने की ख़ुशी में अयोध्यावासियों ने ख़ुशी ख़ुशी घी के दीयों से पूरी अयोध्या नगरी को रोशन कर दिया था।
  40. मिठाई की दुकाने सजने लगती हैं बाज़ारों में पटाखों और फुलझड़ियों की दुकाने सजती हुई दिखाई देती हैं।
  41. दिवाली के त्यौहार की खुशी में बाजार आदि में सजावटें शुरू हो जाती हैं और घरों को सजाने के लिए घरों को सजाने का सामान बाजार आदि में मिलने लग जाती है।
  42. अंधेरे को दूर भगाने के लिए गली गली में हर घरों में दीपक जलाए जाते हैं।
  43. दीपावली के त्यौहार की खुशी में बाजार आदि में सजावटें शुरू हो जाती हैं और घरों को सजाने के लिए घरों को सजाने का सामान बाजार आदि में मिलने लग जाती है।
  44. मिठाइयों की दुकान धूमधाम से सजी हुई होती है सामान्य तौर पर जितनी अन्य दुकानें भी हैं वह अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए दुकानों को खूब अच्छी तरीके से सजा लेती है।
  45. दीपावली के त्यौहार से 1 दिन पूर्व धनतेरस का त्यौहार आता है,
  46. धनतेरस की महत्व अलग ही है धनतेरस के अगले दिन छोटी दीपावली आती है।
  47. दीपावली के अगले दिन गोवर्धन की पूजा की जाती है और उसके अगले दिन भैया दूज आता है| यह पांचो त्यौहार का एक समूह होता है।
  48. दीपावली का त्यौहार राष्ट्रीय व भारत की संस्कृति को दर्शाने का त्यौहार है।
  49. दीपावली के दिन लोगों को नयी वस्तुएँ खरीदने का भी शौक होता है जैसे की वाहन, घरों का समान आदि।
  50. दीपावली के दिन कुछ लोगों को जुआ खेलाना पसंद होता है जो की इस त्यौहार की शांति को भंग करता है।

तो आप सभी को यह दिवाली के लिए निबंध – Diwali 50 Lines In Hindi Essay खूब पसंद आया होगा, तो आप अपने विचार कमेंट मे जरूर बताए और दिवाली पर 50 लाइन निबंध – Diwali 50 Lines In Hindi Essay को शेयर भी लोगो के साथ जरूर करे। और अंत मे आप सभी को हैप्पी दिवाली…

शुभ दिवाली 2021 के लिए इन पोस्ट को पढे :-

4.7/5 - (18 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

 
     close button